कहीं कार्तिक और सारा का ब्रेकअप तो नहीं हो गया, अब अनन्या से बढ़ रहीं है नजदीकियां

वाॅलीवुड के कार्तिक और सारा अली खान अपने अफेयर की खबरों को लेकर हमेशा सुर्खियों में रहते है। दोनों की जोड़ी को दर्शक काफी पसंद करते हैं। उनके रिश्ते को लेकर बीते कुछ महीनों में काफी कुछ कहा गया और माना जा रहा था कि यह रिश्ता बहुत मजबूती के साथ आगे बढ़ रहा है। लेकिन अब खबर आ रही है कि सारा और कार्तिक का ब्रेकअप हो गया है। कार्तिक का रिश्ता टूटने के पीछे की वजह उनका बिजी शेड्यूल बताई जा रही है जिसके चलते वे एक-दूसरे को ज्यादा वक्त नहीं दे पा रहे थे। रिपोर्ट्स की माने तो फिल्म लव आजकल 2 की शूटिंग खत्म होने के बाद कार्तिक फिल्म पति पत्नी और वो के बाद दोस्ताना 2 की शूटिंग में जुट गए हैं तो वहीं सारा कुली नंबर 1 की शूटिंग कर रही हैं। शूटिंग में लगातार व्यस्त होने की वजह से दोनों अब एक दूसरे को बिलकुल भी टाइम नहीं दे पा रहे। इसी के चलते दोनों ने अलग होने के फैसला किया। अब दोनों अपनी प्रोफेशनल लाइफ पर ध्यान देना चाहते हैं। 
वहीं दूसरी ओर सूत्रों के हवाले से खबरें आ रही हैं कि इन दिनों कार्तिक की पति- पत्नी और वो मूवी की कोस्टार अनन्या पांडेय से नजदीकियां बढ़ रही है। कई मौकों पर दोनों साथ नजर आए है। हाल के दिनों में उन्हें लंच डेट, फैशन शो और फराह खान की लंच पार्टी में साथ देखा गया था। दोनों इस दौरान एक-दूसरे के साथ काफी कम्फर्टेबल नजर आ रहे थे। बता दें कि कुछ वक्त पहले करण जौहर के एक शो में अनन्या ने कार्तिक में अपना इंट्रेस्ट भी दिखाया था।

सतह से सतह पर मार करने वाली मिसाइल ब्रहमोस का सफल परीक्षण

भारतीय वायुसेना ने अंडमान निकोबार के त्राल द्वीप पर सतह से सतह पर मार करने वाली एक और ब्रहमोस मिसाइल का सफल परीक्षण किया है। 21 और 22 अक्टूबर को दागी गई ये दोनों मिसाइलें परीक्षण में एक दम अचूक साबित हुई हैं। इन ब्रहमोस मिसाइलों ने परीक्षण के दौरान 300 किलोमीटर दूर लक्ष्य पर एकदम सटीक निशाना साधा और उसे ध्वस्त कर दिया।
बता दें कि दोनों मिसाइलें की टेस्टिंग रूटीन ऑपरेश्नल ट्रेनिंग का हिस्सा है, जिसे एयरफोर्स की ओर से नियमित समय पर किया जाता है। ब्रह्मोस मध्यम दूरी की एक ऐसी सुपरसोनिक मिसाइल है, जिसे किसी एयरक्राफ्ट, शिप या छोटे प्लेटफॉर्म से भी दागा जा सकता है। इस परीक्षण के बाद भारतीय वायुसेना छोटे प्लेटफॉर्म से मिसाइल दागकर लक्ष्य पर सीधा हमला करने के मामले में और सशक्त हुई है और उसकी क्षमता बढ़ गई है।  

बांग्लादेशी खिलाड़ियों ने हड़ताल वापस ली, भारत दौरे पर आएंगें

बांग्लादेशी क्रिकेट बोर्ड द्वारा खिलाड़ियों की सभी मांगों को मानने का आश्वासन मिलने के बाद बांग्लादेशी क्रिकेटरों ने हड़ताल को वापस लेने का फैसला किया है। इस फैसले से उनके भारत दौरे पर मंडरा रहे संदेह के बादल भी छंट गए। बुधवार को लगभग मध्यरात्रि तक चली दो घंटे की बैठक के बाद खिलाड़ियों और बीसीबी के बीच जारी गतिरोध खत्म हुआ। बांग्लादेश के टी-20 और टेस्ट कप्तान शाकिब उल हसन ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में मीडिया को बताया कि खिलाड़ियों की मांगों को लेकर बातचीत सही दिशा में रही और अब खिलाड़ियों ने अपनी हड़ताल खत्म कर ली है। अब ये सभी खिलाड़ी जल्दी ही अपने-अपने तय कार्यक्रमों के अनुसार खेल में वापसी को तैयार हैं।
आपको बता दें कि शाकिब अल हसन, मुशफिकुर रहीम और तमीम इकबाल जैसे वरिष्ठों खिलाड़ियों ने बेहतर वेतन और लाभ के लिए क्रिकेट के सभी गतिविधियों का बहिष्कार करने की घोषणा की थी और 21 अक्तूबर से हड़ताल पर चले गए थे। इन खिलाड़ियों की हड़ताल ने नवंबर में होने वाले उनके भारत दौरे को संदेह में डाल दिया था। इस मामले में खुद बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने दखल दिया था। उन्होंने वनडे कप्तान मुर्तजा को देश के क्रिकेट बोर्ड और क्रिकेटरों के बीच जारी विवाद को निपटाने के लिए मध्यस्थ नियुक्त किया है। 

AMITABH BACHHANबीमारी के बाद इस अंदाज में केबीसी के सैट पर पहुंचे अमिताभ बच्चन

अभी हाल हीं में पिछले सप्ताह वाॅलीवुड के महानायक अमिताभ को लेकर खबरें आई थी कि उन्हें सांस लेने में तकलीफ की वजह से मुंबई के नानावती अस्पताल में एडमीट कराया गया है। बात सहीे भीे निकली लेकिन अमिताभ किसी समस्या से नहीं बल्कि रूटीन चेकअप के लिए अस्पताल में भर्ती हुए थे। पिछलेे शुक्रवार को ही अस्पताल से डिसचार्ज हुए अमिताभ अब तबियत ठीक होते हीे बापस केबीसी की शूटिंग पर लौट गए है। अमिताभ बच्चन ने ट्विटर पर भी केबीसी के सेट की फोटो शेयर की हैं। दो फोटो में वे मेकअप कराते नजर आ रहे हैं, जबकि एक में उनके साथ वीरेंद्र सहवाग, दुति चंद और हिमा दास दिखाई दे रहे हैं। बिग बी ने सेट के दृश्य को एक शायरी में बांधने की कोशिश की है। उन्होंने लिखा है, संवर-संवर के संवार दिया, चेहरे के हर अंग को, अब छोड़ भी दो यारों खेल केबीसी को शुरू करने दो अब। आपको बता दे कि अपनी बीमारी की वजह से रविवार को वो अपने फैंस से मिल भी नहीं पाए थे जिसके लिए उन्होंने अपने फैंस से माफी भी मांगी थी।

Dhanteras धनतेरस के दिन न खरीदे से चीजें, अशुभ माना जाता है

हिंदी पंचाग के अनुसार दिवाली का प्रारंभ धनतेरस से माना जाता है। इस वर्ष धनतेरस 25 अक्टूबर को है। यह हर वर्ष कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को पड़ता है। इस दिन मां लक्ष्मी कि साथ ही धनवंतरी की भी पूजा विधान है। लोगों में ऐसी मान्यता है कि इस दिन शुभ वस्तुओं की खरीदारी करने से लक्ष्मी माता की कृपा उनके परिवार पर होती है और वर्ष भर आर्थिक स्थिति अच्छी रहेगी। धनतेरस पर आप भी खरीदारी करेंगे, ऐसे में आपको पता होना चाहिए कि कौन सी वस्तु आपके लिए शुभ और मंगलकारी होगी और कौन सी वस्तु आपको नहीं खरीदनी चाहिए। धनतेरस के दिन वर्तनों ओर आभूषणों का खरीदना शुभ माना जाता है। वहीं कुछ वस्तुओं को खरीदने के अशुभ प्रभाव होते है। आईए जानते है कि धनतेरस के दिन हमें कौन सी चीजे नहीं खरीदनी चाहिए।
लोहा- धनतेरस पर लोहे से बने सामान घर में नहीं लाने चाहिए। लेकिन अगर आप विशेष रूप से लोहे के बर्तन लाने के बारे में सोच हैं, तो इसे एक दिन पहले खरीद लें। इसका हमारे जीवन पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।
स्टील- कई लोग धनतेरस पर स्टील के बर्तन खरीदते है। चूंकि स्टील लोहे का दूसरा रूप है, इसलिए कहा जाता है कि व्यक्ति को स्टील के बर्तनों से बचना चाहिए और इसके बजाय पीतल तांबे या कांसे की चीजें खरीदनी चाहिये। 
खाली घड़े, बर्तन- पौराणिक मान्यताओं के आधार पर कहा जाता है किघर में खाली घड़ा या बर्तन ले जाने से घर में कभी लक्ष्मी जी नहीं आती। इसलिये घर के अंदर खाली बर्तन ले जाने से पहले उसमें पानी या कोई अन्य वस्तु भर कर साथ ले जाएं। 
नुकीली या धारदार वास्तु- धनतेरस की खरीदारी के मौके पर चाकू, कैंची और अन्य धारदार वस्तुएं न खरीदें। 
कार- धनतेरस पर कई लोग अपने घर नई कार खरीद कर लाते हैं क्योंकि यह एक शुभ दिन माना जाता है। लेकिन मान्यता के अनुसार अगर आप धनतेरस के दिन कार खरीद रहें हैं तो उसका भुगतान धनतेरस से एक दिन पहले कर दें। 
काले कपड़े- धनतेरस एक शुभ दिन है। काले रंग को हमेशा दुर्भाग्य से जोड़ा जाता है जो अच्छा नहीं होता इस लिए इस दिन न तो काले रंग का कपड़ा या फिर काले रंग की किसी भी प्रकार की वस्तु खरीदने से बचना चाहिए।
कांच से बनी चीजें- धनतेरस के दिन कांच या कांच से बनी किसी भी वस्तु को नही खरीदना चाहिए। कांच का संबध राहू से है और राहू को नीच ग्रह माना जाता है। इस लिए इस दिन ग्रह नक्ष़त्रों को ठीक रखने के लिए कांच से निर्मित किसी भी चीज को खरीदने से बचना चाहिए। 
कांटेदार पौधे- प्रायः इस दिन घर के गार्डेन के लिए पौधे भी खरीदते हैं तो इस दिवस पर कांटेदार पौधे घर पर विशेषकर नागफनी इत्यादि न लाएं।

सौरभ गांगुली बनें बीसीसीआई के नए बाॅस

आखिरकार लंबे इंतजार के बाद भारतीय क्रिकेट के सफल कप्तानों में शुमार सौरभ गांगुली  ने विधिवत रूप से भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के 39 वें अध्यक्ष के रूप में कार्यभार संभाल लिया है। बीसीसीआई के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर गांगुली के बोर्ड अध्यक्ष बनने की घोषणा की गई है। बीसीसीआई अध्यक्ष के तौर पर सौरव का कार्यकाल नौ महीने का होगा। वे जुलाई 2020 तक इस पद पर बने रहेंगे। बीसीसीआई के नए संविधान के मुताबिक उन्हें अगले साल सितंबर में तीन साल के कूलिंग ऑफ पीरियड में जाना होगा। इसके तहत गांगुली अगले तीन वर्षों तक बीसीसीआई के किसी भी पद पर नियुक्त नहीं हो सकेंगे। गांगुली के अध्यक्ष के रूप में कार्यभार ग्रहण करते ही सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित प्रशासकों की समिति (सीइओए) भी भंग हो गई है। गांगुली निर्विरोध चुने गए हैं, उनके साथ ही गृह मंत्री अमित शाह के बेटे जय ने सचिव और केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर के भाई अरुण धूमल ने कोषाध्यक्ष का पद संभाला। इनके अलावा उत्तराखंड के महिम वर्मा उपाध्यक्ष और केरल के जयेश जॉर्ज संयुक्त सचिव बने हैं। गांगुली के पदभार ग्रहण करते ही आज सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त प्रशासकों की समिति का 33 महीने से चला आ रहा शासन अब खत्म हो गया है।
आपको बता दें कि गांगुली को आक्रामक कप्तान माना जाता है जो अपने साहसिक फैसलों के लिए मशहूर रहे हैं। साल 2003 में खेले गए वल्र्ड कप में उनकी कप्तानी में टीम इंडिया  उप विजेता रही थी। माना जा रहा है कि किसी पूर्व क्रिकेटर के बोर्ड अध्यक्ष बनने से बीसीसीआई में एक नए दौर की शुरुआत होगी। सौरव बंगाल क्रिकेट संघ के सचिव और बाद में अध्यक्ष पद के अपने अनुभव का पूरा इस्तेमाल करेंगे। उन्होंने कुछ लक्ष्य तय कर रखे हैं, जिनमें प्रशासन को ढर्रे पर लाना और प्रथम श्रेणी क्रिकेटरों के वेतन में बढ़ोतरी आदि शामिल है। 
वहीं सीओए के पूर्व प्रमुख विनोद राय ने कहा कि गांगुली के अध्यक्ष बनने से वे संतुष्ट हैं। उन्होंने कहा हमारा काम संविधान को लागू करना था। हमने संविधान के अनुसार ही बीसीसीआई के चुनाव करवाए। हमें सुप्रीम कोर्ट के जो आदेश मिले थे, हम उनका ही पालन कर रहे थे।

कश्मीरः आतंकी मूसा के वारिस हमीद ललहारी को किया ढ़ेर

ऑपरेशन-ऑल-ऑउट के तहत जम्मू- कश्मीर में आतंक के आकाओं का फन कुचलने में लगी भारतीय सेना को बड़ी कामयाबी मिली है। जाकिर मूसा के मारे जाने के बाद अल कायदा से जुड़े संगठन अंसार गजवत उल हिंद की कमान संभालने वाले आतंकी हामिद ललहारी को भी अब सेना ने मौत के घाट उतार दिया है। मंगलवार को हुए इस एनकाउंटर में तीन आतंकी मारे गए हैं। इनकी पहचान हामिद लोन, नवीद तक और जुनैद भट के रूप में हुई है। आपको बता दें कि इसी साल 24 मई को पुलवामा जिले में सेना की जॉइंट टीम ने एक मुठभेड़ में जाकिर मूसा को ढेर कर दिया था। इसके बाद जून में हामिद ललहारी इस आतंकी संगठन का नया चीफ बनाया गया था। मूसा जब घाटी में आतंकी संगठन चला रहा था तब हामिद उसका सहयोगी था। मूसा की मौत के बाद हामिद घाटी में आतंकी साजिशों को अंजाम दे रहा था।
सूत्रों के अनुसार, आतंकवादियों की मौजूदगी की खुफिया सूचना के आधार पर सेना, केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल और पुलिस के विशेष अभियान समूह ने संयुक्त अभियान छेड़ा था। सुरक्षा बल के जवान इलाके की घेराबंदी कर रहे थे, तभी आतंकवादियों ने स्वाचालित हथियारों से उन पर गोलीबारी शुरू कर दी। सुरक्षा बलों ने भी जवाबी कार्रवाई में गोलियां चलायी। मुठभेड़ स्थल से हथियार और विस्फोटक भी बरामद किये गये हैं।
जम्मू-कश्मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह ने प्रेस कांफ्रेंस कर जानकारी दी कि आतंकी संगठन अंसार गजवत उल हिंद का सफाया हो गया है। डीजीपी ने कहा कि त्राल एनकाउंटर में मारे गए आतंकियों की पहचान हो गई है। ये तीनों आतंकी संगठन अंसार गजवत उल हिंद के थे। इस एनकाउंटर में कमांडर हामिद लल्हारी भी मार गिराया गया है।

भूल-भुलैया-2 में अक्षय की जगह कार्तिक आर्यन होंगेः अनीस बज्मी

भूल- भुलैया के सीक्वेल का दर्शक को बड़ी ही बेसब्री से इंतजार हैं। भूल भुलैया-2 को लेकर पहले ये कयास लगाए जा रहे थे कि इस फिल्म में भी अक्षय कुमार ही लीड रोल में नजर आने वाले है लेकिन फिल्म के निर्देशक अनीस बज्मी ने अब ये साफ कर दिया है कि अक्षय भूल-भुलैया- 2 का हिस्सा नहीं होगे। उन्होने बताया कि हां इस फिल्म में अक्षय कुमार कैमियो करते हुए नहीं नजर आने वाले हैं। यह एक अलग स्टार कास्ट के साथ बिलकुल अलग फिल्म है। फिल्म के पहले पार्ट में अक्षय कुमार लीड रोल में थे। लेकिन इसके सीक्वेल में कार्तिक आर्यन लीड रोल में होंगे। फिल्म का पहला पोस्टर भी सामने आ गया है। इस फिल्म की बात करें तो कियारा आडवाणी इस फिल्म में कार्तिक आर्यन की हीरोइन होंगी। इसी के साथ कार्तिक आर्यन और कियारा आडवाणी की जोड़ी पहली बार बड़े पर्दे पर साथ दिखाई देगी। इससे पहले कियारा आडवाणी ने फिल्म कबीर सिंह से धमाल मचाया था और इस फिल्म में उनके साथ शाहिद कपूर थे। दोनों की केमिस्ट्री और फिल्म परफॉरमेंस को जनता ने खूब पसंद किया था।
आपको बता दें कि भूल भुलैया- 2 की शूटिंग इस महीने शुरू हो गई है। शूटिंग का पहला पार्ट मुंबई में कार्तिक के साथ शूट किया जाएगा। दूसरी तरफ, दूसरे शेड्यूल में कियारा आडवाणी भी शूटिंग में शामिल होंगी।

टेस्ट श्रृंखला 3-0 से जीत भारत ने किया दक्षिण अफ्रीका का सूपड़ा साफ

टीम इंडिया ने अपने शानदार प्रदर्शन के बलबूते दक्षिण अफ्रीका को एक पारी और 202 रन से हराकर रांची टेस्ट मैच जीत लिया है। भारत ने श्रृंखला 3-0 से जीत कर टेस्ट क्रिकेट में पहली बार दक्षिण अफ्रीका को क्लीन स्वीप किया है। मैच के चैथे दिन भारतीय टीम ने दक्षिण अफ्रीकी के अंतिम दो विकेट झटककर जीत की औपचारिकता पूरी कर ली। अफ्रीकी बल्लेबाजों की भारतीय गेंदबाजों के सामने मैच में एक नहीं चली। भारत के पहली पारी में 9 विकेट पर 497 रन के जवाब में तीसरे दिन पहली पारी में अफ्रीकी टीम 162 रन पर ढेर हो गई। ऐसे में कप्तान विराट कोहली ने लगातार दूसरे मैच में फॉफ डुप्लेसी की टीम को फॉलोऑन दिया और दूसरी बार 133 रन पर ढेर कर मैच अपने नाम कर लिया।
क्रिकेट इतिहास में 84 साल के बाद ऐसा मौका आया है जब दक्षिण अफ्रीका की टीम ने लगातार तीन टेस्ट मैच हारे हैं। विराट कोहली ये कमाल करने वाले पहले कप्तान बन गए हैं। इससे पहले कोई भी भारतीय कप्तान साउथ अफ्रीका को टेस्ट सीरीज में क्लीन स्वीप नहीं कर पाया है। आखिरी बार दक्षिण अफ्रीका ने 1935 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दो या इससे ज्यादा टेस्ट मैच लगातार पारी और रन के अंतर से हारे थे।
इस जीत के साथ हीं विराट साउथ अफ्रीका को लगातार दो टेस्ट मैचों में फॉलोऑन देकर पारी और रन के अंतर से जीतने वाले पहले भारतीय कप्तान बन गए हैं। इस टेस्ट सीरीज को जीतने के साथ ही भारत ने घरेलू सरजमीं पर लगातार सबसे ज्यादा टेस्ट सीरीज जीतने का वल्र्ड रिकॉर्ड बना दिया है। भारतीय टीम ने एमएस धोनी, अजिंक्य रहाणे और विराट कोहली की कप्तानी में अब तक घरेलू सरजमीं पर कुल 11 सीरीज जीत ली हैं। इस मामले में भारत ने ऑस्ट्रेलिया को पीछे छोड़ दिया है जिन्होंने दो बार 10-10 टेस्ट सीरीज लगातार अपने देश में जीती हैं।
आपको बता दें कि भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच आईसीसी टेस्ट चैंपियनशिप के अंतर्गत खेली गई इस टेस्ट सीरीज का पहला मैच विशाखापत्तनम में खेला गया जिसे भारतीय टीम ने 203 रनों से जीता। वहीं, दूसरा मैच पुणे में खेला गया जिसे टीम इंडिया ने पारी और 137 रनों के अंतर से जीता। इसके अलावा सीरीज का तीसरा और आखिरी मैच रांची में खेला गया जिसे भारत ने पारी और 202 रनों के अंतर से जीता।

आखिर क्यों टूटते है रिश्ते, जानिए वजह

रिश्तों का हमारे जीवन में एक अलग ही महत्च है। सुदीर्घ और मजबूत रिश्ते मनुष्य को ना केवल भावनात्मक संबल देते है बल्कि आत्मबल बढ़ाने में भी मदद करते है। रिश्तों की डोर बड़ी हीे नाजुक होती है। जिन रिश्तों को बनाने में हमें सालों लग जाते है उन्हीं रिश्तों को टूटने में एक पल नही लगता। जब रिश्ते बनते है तो कुछ दिन तक सब कुछ अच्छा रहता है फिर अचानक से खटास की खबरें आने लगती हैैं। तो वहीं कुछ रिश्ते आपसी समझ और अहंकार की बली भी चढ़ जाते है। अगर आप को भी लगता है कि आपका रिश्ता टूटने की कगार पर है तो जाने अनजाने में की जाने वाली इन आदतों को छोड़ दे आपके रिश्तों की डोर दिनों- दिन और मजबूत होती जाएंगी। आईए जानते है रिश्तों के टूटने के मुख्य कारणों के बारे में…
बातचीत और तालमेल का कम होना- अक्सर रिश्ते टूटने की वजह लोगों के बीच आपसी बातचीत और तालमेल का कम होना है। जिससे वे एक दूसरे की पसंद और नापसंद के बारे में भी नही जान पाते हैं और उनके बीच मन मुटाव बढ़ता ही जाता है।
भरोसा कमजोर हो जाना- बगैर भरोसे के कोई भी रिश्ता ज्यादा दिन तक नहीं टिक सकता है। इसके अलावा  छोटी-छोटी बातों में शक करना भी रिश्तों के टूटने की एक बड़ी वजह है। आप जितना एक दूसरे पर विश्वास करेंगे आपका रिश्ता उतना मजबूत होगा।
उम्मीदों का महल बनाना- अक्सर लोग अपने पार्टनर से काफी उम्मीदें पाल लेते हैं। जिससे जब कई बार उनका पार्टनर उनके मुताबिक घूमना, फिरना, मौज मस्ती कराने में सफल नहीं होता है तो फिर यही से रिश्तों मे खटास आनी शुरू हो जाती है।
रिस्पांस देना है जरुरी- अगर आप अपने पार्टनर की बात तो सुनते है मगर समझते नहीं तो आप उन्हें खो रहे है। आपको उसकी हर बात को सुन कर अच्छे से समझना होगा। इसके अलावा उसकी हर बात पर एक रिस्पांस देना भी जरुरी है।
अहमियत रखती है मायने- हर रिश्ते में एक दूसरे को तवज्जो देना एक बड़ी वजह है। बिना एक दूसरे का महत्व समझे कोई भी रिश्ता कभी आगे नहीं बढ़ सकता है। आजकल रिश्ता टूटने की एक वजह यह भी है कि पार्टनर एक-दूसरे को बिल्कुल अहमियत नहीं देते। कुछ लोग अपने पार्टनर से ज्यादा काम या दूसरी चीजों को महत्व देते है, जोकि पार्टनर को आपसे दूर कर देता है।
बार- बार ताने मारना- बहस होने या गलती होने पर पार्टनर को ताने मारने से झगड़े और बढ़ जाते है। ये भी रिश्तों के कमजोर होने की एक मुख्य वजह है। अगर आपके साथी से कोई गलती हो जाती है तो उसे उसका एहसास अवश्य करवाएं लेकिन बार बार एक हीे बात के लिए ताने ना मारें।
दूसरी चीजों को महत्व देना- आजकल कपल्स के बीच रिश्ता टूटने की एक वजह यह भी है कि वह एक-दूसरे को बिल्कुल अहमियत नहीं देते। कुछ लोग अपने पार्टनर से ज्यादा काम या दूसरी चीजों को महत्व देते है, जोकि पार्टनर को आपसे दूर कर देता है।
उचित व्यवहार- किसी भी रिश्ते की सफलता में एक दूसरे के साथ उचित व्यवहार और एक दूसरे का सम्मान भी बेहद जरूरी है।