जन्म लेते ही बच्ची बनी सुपरस्टार


ब्राजील (Brazil) के रियो डी जेनेरिया (Rio de Janeiro) के एक अस्पताल में 13 फरवरी को एक बच्ची ने जन्म लिया और वो सुपरस्टार बन गई. क्योंकि जन्म लेने के बाद बच्ची गुस्से में डॉक्टर की तरफ देखने लगी. बच्ची के एक्सप्रेशन खूब वायरल हो रहा है. जन्म के बाद जब डॉक्टर्स ने गर्भनाल काटने से पहले बच्चे को रुलाने की कोशिश की तो उसने गुस्से से डॉक्टर्स की तरफ देखा. देखकर डॉक्टर हैरान रह गए. उस लम्हें को कैमरे में कैद कर लिया गया | सोशल मीडिया में कोई कह रहा है कि वह सिजेरियन डिलिवरी को लेकर गुस्से में है. | बच्ची का नाम इसाबेल परेरा डी जिसस रखा गया है

भारत ने फिर खोली पाक के झूठ की पोल… पाकिस्तान में हीं छिपा है आतंकी मसूद…


भारत ने एक बार फिर पाकिस्तान के झूठ को दुनिया के सामने उजागर किया है। पाकिस्तान दुनिया को दिखाने के लिए लंबे समय से आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर पर कार्यवाही की बात कर रहा था और  अभी हाल हीं में पाकिस्तान ने कहा था कि आतंकी मसूद अजहर सेना की कैद से लापता हो गया है लेकिन इस माामले में भारत की काउंटर टेरर एजेंसियों ने एक बड़ा खुलासा करते हुए कहा है कि आतंकी मसूद कही लापता नहीं हुआ है बल्कि पाकिस्तान में ही छिपकर रह रहा है और पाकिस्तान सरकार को इसकी जानकारी भी है। मिली जानकारी के मुताबिक, भारत का मोस्ट वॉन्टेड आतंकी मसूद अजहर फिलहाल पाकिस्तान के बहावलपुर शहर में रह रहा है। बहावलपुर के रेलवे लिंक रोड पर उसका ठिकाना है। खबरों के मुताबिक, जिस जगह मसूद अजहर छिपा है वह बहावलपुर आतंकी हेडक्वॉर्टर के पीछे है। वहां काफी तगड़ी सिक्यॉरिटी भी है। कहा तो ये भी जाता है कि जहां मसूद अजहर छिपा है, उस घर में बम हमले का भी कोई असर नहीं होगा। यही नहीं मसूद के अन्य तीन ठिकानों का भी पता चला है। इसमें कसूर कॉलोनी बहावलपुर, मदरसा बिलाल हबसी खैबर पख्तूनख्वा और मदरसा मस्जिद-ए-लुकमान खैबर पख्तूनख्वा शामिल हैं। बता दें कि 2016 में हुए पठानकोट हमले से संबंधित जो डोजियर पाकिस्तान को सौंपा गया था उसमें एक फोन नंबर ऐसा था जिसका लिंक बहावलपुर टेरर फैक्टरी से था। हालिया रिपोर्ट की मानें तो पाकिस्तान पेरिस में रविवार से शुरू फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स की बैठक में बता सकता है कि आतंकी मसूद अजहर गायब है। हालांकि, पाकिस्तान ने एफएटीएफ की प्लेनरी मीटिंग से ठीक पहले आतंकी फंडिंग के आरोप में जमात-उद-दावा के प्रमुख और आतंकी हाफिज सईद और उसके सहयोगियों को दो मामलों में करीब साढ़े पांच-पांच साल की जेल की सजा सुनाई है। मगर मुंबई 2008 हमले के मास्टरमाइंड आतंकी मसूद अजहर और रहमान लखवी के खिलाफ पर्याप्त कार्रवाई नहीं की है।
आपको बता दें कि मसूद अजहर जैश-ए-मोहम्मद का सरगना है और भारत में हुई कई आतंकी घटनाओं का मास्टरमांइड है। पिछले साल पुलवामा में 14 फरवरी को हुए आतंकी हमले की जिम्मेदारी भी जैश ने ही ली थी। टॉप इंटेलिजेंस सूत्रों के मुताबिक जैश सरगना का स्वास्थ्य काफी खराब है। खराब सेहत के कारण मसूद इन दिनों संगठन के काम से दूर है और उसका भाई अब्दुल रऊफ असगर ही इन दिनों उसकी आतंक की फैक्ट्री चला रहा है।

कश्मीर पर तुर्की के बयान पर भारत का करारा जवाब कहा, हमारे आंतरिक मामले में दखल ना दे


तुर्की के राष्ट्रपति रिसेप तैयप एर्दोआन ने एक बार फिर कश्मीर मुद्दे पर अपनी टांग अड़ाई है। पाक संसद को संबोधित करते हुए कश्मीर मामले में जहर उगलते हुए उन्होंने कहा कि कश्मीर तुर्की के लिए भी उतनी ही अहमियत रखता है जितनी पाकिस्तान के लिए। एर्दोगान ने कहा कि कश्मीर में जुल्म हो रहेा है और वे चुप नहीं बैठने वाले। उन्होंने पाक प्रधानमंत्री इमरान को बेर्शत समर्थन देने को वादा भी किया है। इसपर विदेश मंत्रालय की तीखी प्रतिक्रिया आई है। विदेश मंत्रालय ने तुर्की के राष्ट्रपति और तुर्की-पाकिस्तान संयुक्त घोषणा द्वारा जम्मू एवं कश्मीर को लेकर पूछे गए सवालों के जवाब में भारत विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है। बेहतर होगा कि एर्दोआन भारत के अंदरूनी मामलों में दखल न दें और अपने तथ्यों की जानकारी बढ़ाएं। उन्हें पाकिस्तान से चलने वाले आतंकवाद से भारत समेत अन्य देशों पर बढ़ रहे खतरे के बारे में सोचना चाहिए। आपको बता दें कि कश्मीर मामले में तुर्की ने हमेशा से पाकिस्तान का ही साथ दिया है। भारत जैसे विशालतम लोकतंत्र को मानवाधिकारों का पाठ पढ़ाने की कोशिश कर रहे एर्दोगन तुर्की में एक कट्टर इस्लामिक तानाशाह के रूप में जाने जाते हैं। नरमपंथी इस्लामी दल एकेपी से ताल्लुक रखने वाले मौजूदा तुर्की राष्ट्रपति एर्दोआन कमाल अता तुर्क की कमालवाद विचारधारा को खत्म कर देश की धर्मनिरेपक्षता समाप्त करने में जुटे हुए हैं। तुर्की में एर्दोआन की तुलना सद्दाम हुसैन, बशर अल असद और मुअम्मर गद्दाफी जैसे तानाशाहों से की जाती है। एक तरफ तो एर्दोआन यूरोपीय यूनियन में शामिल होना चाहते हैं, वहीं दूसरी तरफ तुर्की में ओटोमन साम्राज्य को स्थापित कर खुद को बड़े इस्लामिक नेता के तौर पर स्थापित करना चाहते हैं।

महाभियोग के सभी आरोपों से बरी हुए ट्रंप


काफी समय से महाभियोग का सामना कर रहे अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को अमेरिकी सीनेट नें पद के दुरूपयोग करने और और कांगे्रस (संसद) की कार्यवाही बधित करने के सभी आरोपों से बरी कर दिया है। चुनावी साल में इसे ट्रंप की बड़ी राजनीतिक और नैतिक जीत माना जा रहा है। और कहा जा रहा है कि इस जीत से टंªप को राष्ट्रपति चुनाव में जबरदस्त फायदा होने वाला है। ट्रम्प के खिलाफ आरोपों की कई हफ्ते तक जांच के बाद डेमोक्रेटिक पार्टी के बहुमत वाले निम्न सदन प्रतिनिधि सभा ने राष्ट्रपति पर पद के दुरुपयोग और कांग्रेस की कार्रवाई बाधित करने का अभियोग दिसम्बर में लगाया था। रिपब्लिकन बहुमत वाले सीनेट में पद के दुरुपयोग के मामले में 52 सांसदों ने ट्रम्प को बरी करने के लिए और 48 ने उनके खिलाफ वोट डाला। वहीं कांग्रेस की कार्रवाई बाधित करने के आरोप से ट्रम्प को बरी करने के लिए 53 और उन्हें इस मामले में दोषी करार के लिए 47 सांसदों ने वोट किया। आपकों बता दें कि सीनेट में महाभियोग भले ही खारिज हो गई हो लेकिन डैमोक्रेटिक पार्टी की अगुआई में चल रही जांच समाप्त नहीं होगी। वहीं राजनीतिक जानकार मानते हैं कि ट्रंप को पूरे कार्यकाल में 50 फीसदी समर्थन नहीं मिला था लेकिन महाभियोग पर फैसला आने की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति को 49 फीसदी लोगों का समर्थन मिला है। गौरतलब है कि अमेरिका के इतिहास में अबतक कुल तीन राष्ट्रपतियों पर महाभियोग चलाया गया है। एंड्रयू जॉनसन, बिल क्लिंटन और डोनाल्ड ट्रंप। जॉनसन और क्लिटंन को सीनेट ने पद से नहीं हटाया था। वहीं राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन ने महाभियोग से बचने के लिए अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। लेकिन डोनाल्ड ट्रंप महाभियोग का आरोप लगने के बावजूद दोबारा राष्ट्रपति चुनाव लड़ने वाले पहले व्यक्ति हैं।

पाकिस्तान के सिंध में एक और हिंदू मंदिर पर भीड़ ने हमला कर तोड़फोड की

पाकिस्तान के सिंध में एक और हिंदू मंदिर पर भीड़ ने हमला कर तोड़फोड की…
धारा 370 हटने से तिलमिलाएं पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान जहां आए दिन अपने बयानों में कश्मीर में नागरिकों के उत्पीड़न का दावा करते नहीं थमते जबकि उनके देश पाकिस्तान में भी हिंदू अल्पसंख्यकों को प्रताड़ित करने को सिलसिला लगातार जारी है। हकीकत ये है कि पाकिस्तान के सिंध प्रांत में हिंदू अल्पसंख्यकों का जीना दिन ब दिन और दूभर होता जा रहा है। ताजा जानकारी के अनुसार एक बार फिर सिंध प्रांत के एक मंदिर पर भीड़ ने हमला कर मूर्तियों को नुकसान पहुंचाने के साथ ही वहां मौजूद लोगों से मारपीट भी की है। पाकिस्तान की वरिष्ठ पत्रकार नायला इनायत ने इस घटना की तस्वीरें सोशल मीडिया पर चार तस्वीरे शेयर की है। जिसमें साफ देखा जा सकता है कि किसी ने माता की मूर्ती पर काला रंग डाल दिया है और इसके अलावा मंदिर में तोडफोड की कोशिश भी की है। उन्होंने लिखा कि सिंध में अब एक और हिंदू मंदिर में तोड़फोड़ की गई। थारपरकर के चाचरो में भीड़ ने माता रानी भातियानी मंदिर में पवित्र मूर्ति और ग्रंथों को नुकसान पहुंचाया।
आपको बता दें कि सितंबर महीने में सिंध में ही एक और हिंदू मंदिर में कट्टरपंथियों ने तोड़फोड़ की थी। इतना ही नहीं, कुछ दिनों पहले सिखों के सबसे पवित्र गुरुद्वारा ननकाना साहिब पर भी कट्टरपंथियों की भीड़ ने हमला किया था। वहीं पाकिस्तान के सिंध प्रांत में हिंदू लड़कियों को अगवा कर जबरन धर्म परिवर्तन कराने की घटनाएं अक्सर चर्चा में रहती हैं। हाल में ही सिंध प्रांत के जैकोबाबाद से एक हिंदू लड़की का अपहरण कर जबरन उसका धर्म परिवर्तन करवाया गया। बाद में एक मुस्लिम लड़के के साथ उसका निकाह भी करवा दिया गया। घटना के बाद जैकोबाबाद में अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों ने प्रदर्शन भी किया था लेकिन पाकिस्तानी सरकार पर इसका कोई असर नहीं हुआ।

हेलीकाॅप्टर हादसे में मशहूर बास्केटबाॅल खिलाड़ी और उनकी बेटी की मौत


अमेरिका के कैलिफोर्निया में हुए एक हेेलीकॉप्टर क्रैश में दिग्गज बास्केटबाॅल खिलाड़ी कोबे ब्रायंट और उनकी बेटी गियाना मारिया (13) समेत 9 लोगों की मौत हो गई है। बताया जा रहा है कि ब्रायट और अन्य लोग एक बास्केटबाॅल मुकाबले के लिए सिकोरस्की एस- 76 बी हेलीकाप्टर से सिकोरस्की जा रहे थे तब ये हादसा हुआ। ये हादसा रविवार को स्थानीय समय के मुताबिक सुबह 10 बजे हुआ था।  मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक हादसे के समय घना कोहरा छाया हुआ था। कोहरे के कारण रेस्क्यू ऑपरेशन में बचाव दल को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा है। आपकों बता दें कि कोबे ब्रायंट बास्केटबाॅल जगत के महान खिलाड़ियों में से एक थे। कोबे प्रतिष्ठित नेशनल बास्केटबाॅल (एनबीए)  में तकरीबन 20 साल रहे। इस दौरान वे 5 बार चैंम्पियनशिप अपने नाम कर चुके हैं।
इस महान खिलाड़ी के निधन से दुनियाभर के खेल प्रेमियों में शोक की लहर हैं। सचिन तेंदुलकर से लेकर भारतीय कप्तान विराट कोहली और अपने जमाने के दिग्गज विवियन रिचर्डस सहित दुनिया भर के क्रिकेटरों ने भी बास्केटबॉल खिलाड़ी कोबे ब्रायंट की हेलीकाप्टर दुर्घटना में मौत पर शोक व्यक्त किया है। तेंदुलकर ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा है किकोबे ब्रायंट, उनकी बेटी गियाना और हेलीकॉप्टर में सवार अन्य लोगों की आकस्मिक मौत से दुखी हूं। उनके परिवार, मित्रों और दुनिया भर के प्रशंसकों के प्रति मेरी संवेदनाएं है। तो वहीं कोहली ने अपने इंस्टाग्राम पेज पर लिखा कि आज इस खबर को सुनकर बहुत दुखी हूं। बचपन की कई यादें जुड़ी हैं। सुबह जल्दी उठकर कोर्ट पर उनकी जादूगरी देखना, जिससे मैं मंत्रमुग्ध हो जाता था। जीवन कितना अप्रत्याशित और अस्थिर है। दुर्घटना में उनकी बेटी गियाना की भी मौत हो गयी। मैं इससे बहुत आहत हूं। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे। परिवार के प्रति संवेदना। ईश्वर उन्हें मजबूती प्रदान करे।
——————————–        

दर्द से कराह रही हैं शबाना…..

प्रसिद्ध पूर्व अभिनेत्री और प्रख्यात शायर जावेद अख्तर की बेगम शबाना आजमी को लेकर खुशी की बात यह है कि वे अब पहले से बेहतर हैं और हर बात का जवाब दे रही हैं…… लेकिन तमाम चोटों के चलते शबाना का दर्द उनके चेहरे पर आसानी से पढ़ा जा सकता है। प्रसिद्ध फिल्म निर्माता विपुल शाह ने एक अखबार को बताया है कि वे शबाना जी को देखकर आए हैं और उनकी हालत बेहतर है लेकिन वे बहुत दर्द में हैं। आपको बतादें कि शबाना आजमी का शनिवार को मुंबई-पुणे एक्सप्रेसवे पर कार एक्सीडेंट हो गया था । यह हादसा जावेद अख्तर की जन्मदिन की पार्टी के एक दिन बाद हुआ था। एक्सीडेंट के बाद शबाना आजमी को मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल में भर्ती कराया गया । इसके बाद से बॉलीवुड हस्तियों के अलावा राजनेता भी शबाना को देखने के लिए अस्पताल पहुंच रहे हैं ।  शबाना से मिलने के लिए अभी तक जोया अख्तर, फरहान अख्तर, अधुना भबानी, हनी ईरानी, शिबानी दांडेकर, फराह खान, रितेश सिधवानी, विक्की कौशल, अनिल कपूर, तब्बू, अनिल अंबानी और विपुल अमृतलाल शाह जैसे बड़े सितारे अस्पताल पहुंचे हैं । शबाना की तबीयत को लेकर विपुल शाह का बयान आया है विपुल शाह का कहना है कि शबाना जी की तबीयत ठीक हो रही है । डॉक्टरों ने उन्हें ऑब्जर्वेशन में रखा है लेकिन घबराने की कोई बात नहीं है। वो बहुत दर्द में हैं और उन्हें ठीक होने में समय लगेगा। उनका अच्छे से इलाज हो रहा है और वो हर बात का जवाब देने में समर्थ हैं।