संजय बांगर ने ठुकराया बांग्लादेश के बैटिंग कोच बनने का ऑफर

टीम इंडिया के पूर्व क्रिकेटर और बल्लेबाजी कोच संजय बांगर ने बांग्लादेश क्रिकेट टीम के बैटिंग कोच और बांग्लादेशी टेस्ट टीम का सलाहकार बनने के आफर को ठुकरा दिया है। बांगर ने कुछ निजी और पेशेवर प्रतिबद्धताओं की वजह से इस ऑफर को  इंकार किया है। और कहा है कि फिलहाल वो बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड के किसी भी प्रस्ताव को स्वीकार नही कर रहे है। बीसीबी ने आठ सप्ताह पहले बांगर के सामने टेस्ट क्रिकेट में बांग्लादेश के बल्लेबाजों को कोचिंग देने का प्रस्ताव रखा था। बांगर ने कहा कि उन्होंने आठ सप्ताह पहले मेरे सामने प्रस्ताव रखा था। लेकिन मैंने स्टार के साथ अपने अनुबंध को अंतिम रूप दे दिया है, जिससे मुझे अपनी निजी और पेशेवर प्रतिबद्धताओं के बीच संतुलन बिठाने का मौका मिलेगा। हालांकि मैं भविष्य में बीसीबी के साथ काम करने के लिए तैयार हूं। लेकिन बांगर इसे स्वीकार नहीं कर सकते, क्योंकि उन्होंने स्टार स्पोर्ट्स के साथ दो साल का अनुबंध किया है। आपको बता दें बांगर 2014 से 2019 तक भारतीय टीम के साथ जुड़े रहे। सितंबर में घरेलू सत्र शुरू होने के बाद उनकी जगह विक्रम राठौड़ ने ली है। वल्र्ड कप के बाद वेस्टइंडीज का दौरा भारतीय टीम के साथ उनकी आखिरी सीरीज थी। इसके बाद से बांगर कॉमेंट्री में व्यस्त हैं। 47 साल के बांगर ने भारत की तरफ से 2001 से 2004 तक 12 टेस्ट और 15 वन-डे खेले ह। बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड के मुख्य कार्यकारी निजामुद्दीन चैधरी ने ढाका में बुधवार को बताया कि बैंटिंग कोच और टेस्ट टीम के सलाहकार के लिए हमारी बांगर से बात हुई थी लेकिन मामले को अंतिम रूप नहीं दिया जा सका। उन्होंने बताया कि हमारी कुछ अन्य लोगों से भी बातचीत चल रही है। फिलहाल दक्षिण अफ्रीका के नील मैकेंजी यह जिम्मेदारी निभा रहे हैं। जब तक हमें टेस्ट बैटिंग कोच नहीं मिल जाता, मैकेंजी यह काम जारी रखेंगे। 

शायद बीसीसीआई मेरे काम से खुश नहीं- संजय मांजरेकर


पिछले काफी समय से न सिर्फ भारतीय क्रिकेट टीम बल्कि घरेलू क्रिकेट में भी कमेंट्री बाॅक्स का अहम हिस्सा रहे संजय मांजरेकर ने उन्हें बीसीसीआई कामेंट्री पैनल से हटाए जाने पर पहली बार अपनी चुप्पी तोड़ते हुए ट्विटर पर अपने मन की बात कही। मांजरेकर ने ट्विटर पर लिखा कि मैंने कॉमेंट्रेटर का ओहदा हमेशा ही सम्मान के तौर पर लिया है न कि अधिकार के तौर पर। यह मेरे नियोक्ताओं पर है कि वे मुझे काम देना चाहते हैं या नहीं। मैं इसका हमेशा ही सम्मान करूंगा। हो सकता है बीसीसीआई मेरे प्रदर्शन से खुश न हो। लेकिन मैं बतौर प्रोफेशनल इस फैसले को स्वीकार करता हूं।
गौरतलब है कि इस सप्ताह की शुरुआत में एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, मांजरेकर को बीसीसीआई के कमेंट्री पैनल से बाहर का रास्ता दिखा दिया था और वह भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच खेले गए पहले वनडे के लिए धर्मशाला में कमेंट्री का हिस्सा नहीं थे। हालांकि यह मैच बारिश के चलते रद हो गया था जबकि कोरोनो वायरस के प्रकोप के कारण बाद में पूरी सीरीज ही रद्द हो गई है। यही नही इस रिपोर्ट में यह भी उल्लेख किया गया था कि मांजरेकर इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) 2020 के कमेंट्री पैनल का भी हिस्सा नहीं होंगे। आईपीएल 29 मार्च को शुरू होने वाला था, लेकिन 15 अप्रैल तक निलंबित कर दिया गया।
आपको बता दें कि मांजरेकर को सोशल मीडिया पर पिछले काफी दिनों से रवींद्र जडेजा पर उनकी टिप्पणियों और हर्षा भोगले के साथ उनके तर्क के लिए काफी आलोचना का सामना करना पड़ा है। इंग्लैंड में पिछले साल खेले गए वल्र्ड कप के दौरान मांजरेकर ने रवींद्र जडेजा पर कमेंट किया था। तब जडेजा ने जवाब देते हुए कहा था, आपने जितने मैच खेले हैं उससे दोगुने मैच मैं खेल चुका हूं और आज भी खेल रहा। लोगों का सम्मान करना सीखें, आपकी बकवास बहुत सुन ली। हालांकि, मांजरेकर ने विश्व कप में न्यूजीलैंड के हाथों भारत की सेमीफाइनल हार के बाद जडेजा से माफी मांग ली थी। वहीं कई बार मांजरेकर की हर्षा भोगले के साथ भी तकरार हो चुकीं है।

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ आगामी सीरीज के लिए भारतीय टीम का ऐलान… शिखर, हार्दिक और भुवनेश्वर की टीम में वापसी…


दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 12 मार्च से शुरू हो रही आगामी वनडे सीरीज के लिए भारतीय टीम का ऐलान कर दिया गया है। चोट से उबरने के बाद शानदार फाॅर्म में दिख रहे हरफनमौला हार्दिक पंड्या समेत सलामी बल्लेबाज शिखर धवन और तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार की दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तीन मैचों की वडे सीरीज के लिए भारतीय टीम में वापसी हुई है। चयन समिति के नए अध्यक्ष सुनील जोशी की अगुआई में पहली बार रविवार को टीम चुनी गई है। न्यूजीलैंड के खिलाफ वनडे सीरीज की टीम में शामिल रहे तेज गेंदबाज शादरुल ठाकुर और हरफनमौला शिवम दुबे को उनके लचर प्रर्दशन की वजह से बाहर कर दिया गया जबकि अनुभवी केदार जाधव की जगह शुभमन गिल को मौका मिला है। वहीं पृथ्वी शॉ की सकारात्मक बल्लेबाजी को देखते हुए चयनकर्ताओं ने उन्हें टीम में बरकरार रखने का फैसला किया। हालांकि उपकप्तान रोहित शर्मा अब तक मांसपेशियों की खिचाव से उबर नहीं पाए है ऐसे में उम्मीद है कि वह 29 मार्च से शुरू हो रहे आईपीएल से वापसी करेंगे।
बता दें कि टीम इंडिया पिछले दिनों न्यूजीलैंड दौरे पर थी। वहां उसे टी- 20 सीरीज में 5-0 से जीत मिली थी, जबकि वनडे और टेस्ट सीरीज में करारी हार का सामना करना पड़ा था। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तीन मैचों की सीरीज के मुकाबले 12 मार्च धर्मशाला, 15 मार्च लखनऊ और 18 मार्च कोलकाता में खेले जाएंगे।

डोमेस्टिक क्रिकेट के बादशाह वसीम जाफर ने किया संन्यास का ऐलान…


भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व सलामीबल्लेबाज और डोमेस्किट क्रिकेट के बादशाह कहे जाने वाले वसीम जाफर ने शनिवार को क्रिकेट के सभी प्रारूपों को अलविदा कह दिया है। घरेलू क्रिकेट के सचिन कहे जाने वाले 42 वर्षीय जाफर ने 31 टेस्ट मैचों में 34.11 की औसत से कुल 1,944 रन बनाए जिसमें 5 शतक और 11 अर्धशतक शामिल हैं। उनका सर्वोच्च निजी स्कोर 212 रन है। उनके संन्यास की घोषणा के साथ ही पिछले दो दशक से चले आ रहे उपके शानदार करियर का भी अंत हो गया। जाफर उन भारतीय बल्लेबाजों की फेहरिस्त में शामिल है जिन्होंने वेस्टइंडीज में दोहरा शतक लगाया है। उन्होंने कैरेबियाई टीम के खिलाफ सेंट लूसिया में 212 रन शानदार पारी खेली थी। वसीम जाफर रणजी ट्रॉफी में 12,000 रन बनाने वाले पहले बल्लेबाज है। और उन्होंने अपने करियर में अधिकतर समय मुंबई का प्रतिनिधित्व किया। बाद में वह विदर्भ की टीम के लिए खेलने लगे थे। वह रणजी ट्रॉफी में 150 मैच खेलने वाले पहले बल्लेबाज हैं। आपको बता दें कि जाफर ने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में 1996-97 में पदार्पण किया तथा 260 मैचों में 50.67 की औसत से 19,410 रन बनाए हैं इसमें 57 शतक और 91 अर्धशतक शामिल हैं। इसके अलावा जाफर ने 23 टी- 20 मैच भी खेले हैं जिनमें उनके नाम 616 रन दर्ज है। इस दौरान उनका बेस्ट स्कोर 95 रन रहा।
संन्यास के बाद अपने बयान में जाफर ने कहा कि सबसे पहले मैं अल्लाह का शुक्रिया अदा करना चाहूंगा जिसने मुझे इस शानदार खेल को खेलने के लिए प्रतिभा बख्शी। मैं अपने परिजनों, मेरे माता-पिता और भाईयों का आभार व्यक्त करना चाहता हूं जिन्होंने मुझे इस खेल को पेशे के तौर पर अपनाने के लिए प्रोत्साहित किया। मैं अपनी पत्नी का आभार व्यक्त करना चाहता हूं जिसने मेरा प्यारा घर बसाने और मेरे और बच्चों के लिए इंग्लैंड की आरामदायक जिंदगी छोड़ दी। मेरे सभी प्रशिक्षकों का विशेष आभार। चयनकर्ताओं का तहेदिल से आभार जिन्होंने मुझ पर भरोसा जताया।

भारत पहली बार महिला टी-20 के फायनल में पहुंचा


भारत की की महिला क्रिकेट टीम ने इतिहास रचते हुए पहली बार महिला टी-20 के फायनल में जगह बना ली है। भारत और इग्लैंड के बीच गुरूवार को होने वाला सेमीफायनल मुकाबला बारिश की वजह से रद्द हो गया है। जिसके बाद ग्रुप ए की अंक तालिका में शीर्ष स्थान की बदौलत हरमनप्रीत कौर की टीम ने फायनल मंे जगह पक्की कर ली है।  ग्रुप ए की अंक तालिका में टीम इंडिया ने चार जीत से आठ अंक हासिल किए, वहीं ग्रुप बी में इंग्लैंड की टीम तीन जीत व एक हार से 6 अंक हासिल किए। इसी आधार पर टीम इंडिया ने फाइनल में जगह बनाई है। इससे पहले हुए सात टी-20 वल्र्ड कप में भारतीय टीम का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन सेमीफाइनल में पहुंचना था। साल 2018 में हुए पिछले टी-20 वल्र्ड कप के सेमीफाइनल में तब इंग्लैंड ने भारत को आठ विकेट से हराया था। अब रविवार 8 मार्च को होने वाले खिताबी मुकाबले में भारत का सामना साउथ अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया के बीच होने वाले दूसरे सेमीफाइनल के विजेता से होगा। मगर बारिश के चलते दूसरा सेमीफाइनल रद्द होने की भी आशंका है। ऐसा हुआ तो फिर ग्रुप में शीर्ष पर रहने वाली साउथ अफ्रीका और भारत खिताब के लिए आमने-सामने होंगे।
आपकों बता दें कि आईसीसी के नियमों के अनुसार नतीजे के लिए कम से कम दस-दस ओवरों को मैच पूरा होना जरूरी था। लेकिन सुबह से ही हो लगातार बारिश ने इसका भी मौका नहीं दिया। बारिश रुकने की संभावना देख मैदान में दर्शकों की संख्या में कमी होने लगी और अंत के अधिकारियों ने इस मैच को रद्द करने का फैसला ले लिया।
भारतीय टीम को फाइनल में पहुंचाने में सबसे अहम भूमिका शेफाली वर्मा और पूनम यादव की रही है। शेफाली वर्मा ने चार मैचों में 161 रन बनाए हैं। वे भारत की ओर से टूर्नामेंट में सबसे अधिक रन बनाने वाली खिलाड़ी हैं। वहीं पूनम यादव ने टूर्नामेंट में सबसे अधिक 9 विकेट झटके हैं।

शेफाली वर्मा ने वर्मा ने रचा इतिहास, महिला टी-20 में दुनिया की नंबर 1 बल्लेबाज बनीं


भारतीय महिला टी- 20 टीम की युवा सलामी बल्लेबाज बल्लेबाज शेफाली वर्मा ने आस्ट्रेलिया में चल रहे महिला टी-20 विश्व कप मे अपने शानदार प्रदर्शन से सभी को प्रभावित किया है। शेफाली की तूफानी शुरूआत से भारतीय टीम को लगभग हर मैच में फायदा मिला है। इस शानदार प्रर्दशन का इनाम ईनाम शेफाली को आईसीसी टी- 20 रैंकिग में भी मिला है। आईसीसी की ओर से जारी महिला टी-20 बल्लेबाजों की ताजा रैंकिग में शेफाली बड़ी छलांग लगाती हुई शीर्ष पर काबिज हो गई है। 16 साल की शेफाली ने बल्लेबाजी रैंकिंग में न्यूजीलैंड की सूजी बेट्स को पीछे छोड़ दिया है जो अक्तूबर 2018 से शीर्ष पर काबिज थीं। शेफाली ने मौजूदा टूर्नामेंट में अब तक चार पारियों में 161 रन बनाए हैं। उन्होंने श्रीलंका और न्यूजीलैंड के खिलाफ क्रमश 47 और 46 रन की पारियां खेली। शेफाली महिला टी-20 अंतरराष्ट्रीय बल्लेबाजी रैंकिंग में शीर्ष पर जगह बनाने वाली मिताली राज के बाद दूसरी भारतीय बल्लेबाज हैं। शेफाली के अलावा टॉप 10 में शामिल बाकी भारतीय खिलाड़ियों को रैकिंग में नुकसान हुआ है। टीम की स्टार बल्लेबाज स्मृति मंधाना चैथे स्थान से खिसककर छठे स्थान पर पहुंच गई हैं। वहीं जेमिमा रोड्रिग्स सातवें से नौवें स्थान पर पहुंच गई हैं। वहीं अगर भारतीय गेंदबाजों की बात करें तो टी-20 वल्र्ड कप में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाली पूनम यादवचार स्थानों की छलांग लगाकर टॉप 10 में शामिल हो गई हैं। टूर्नामेंट की शुरुआत में वह 12वें स्थान पर थीं जबकि अब वह आठवें स्थान पर पहुंच गई हैं। भारत की दीप्ति शर्मा नौ स्थान के फायदे से सातवें स्थान पर पहुंच गई हैं। उन्होंने पहली बार ऑलराउंडरों की सूची में शीर्ष 10 में जगह बनाई हैं।
आपको बता दें कि शेफाली को सोशल मीडिया पर फैंस ‘लेडी सहवाग’ के नाम से बुलाते हैं। दिग्गज सचिन तेंदुलकर को अपना आदर्श बताने वाली शेफाली ने वल्र्ड कप से पहले ऑस्ट्रेलिया में मास्टर ब्लास्टर से मुलाकात भी की थी। पिता का कहना है कि तेंदुलकर को देखकर ही शेफाली में उनके जैसा नाम कमाने और खेलने का जूनून सवार हुआ।

वनडे के बाद टेस्ट मे भी टीम इंडिया चारों खाने चित… दूसरे टेस्ट में न्यूजीलैंड ने 7 विकेट से हराया…


न्यूजीलैंड के हाथों टीम इंडिया को पहले वनडे सीरीज और अब टेस्ट सीरीज में भी करारी हार का सामना करना पड़ा है। क्राइस्टचर्च में हुए दूसरे टेस्ट में कीवीयों ने विराट बिग्रेड को 7 विकेट से शिकस्त दे क्लीन स्वीप करते हुए आईसीसी टेस्ट चैंम्पियनशिप में पहली सीरीज हारने पर मजबूर कर दिया है। न्यूजीलैंड की टीम 17 साल बाद भारत के खिलाफ 2-0 से टेस्ट जीती है।
भारत ने पहली पारी में 242 रन बनाए थे और न्यूजीलैंड को उसकी पहली पारी में 235 रनों पर समेट दूसरी पारी में सात रनों की बढ़त के साथ उतरी थी। दूसरी पारी में भारतीय बल्लेबाज पूरी तरह से नाकाम रहे और टीम 124 रनों पर ही ढेर हो गई। महज 132 रनों के आसान लक्ष्य को कीवी टीम ने चायकाल से पहले 36 ओवरों में तीन विकेट खोकर हासिल कर लिया। एक समय जब उसकी टॉम बल्ंडल और टॉम लाथम की सलामी जोड़ी जिस तरह से खेल रही थी उससे लग रहा था कि इस मैच में भी भारत को 10 विकेटों से हार मिलेगी। इन दोनों ने पहले विकेट के लिए 103 रन जोड़ लिए थे। तभी उमेश यादव ने लाथम को आउट कर भारत को पहला विकेट दिलाया। लाथम ने 74 गेंदों पर 10 चैकों की मदद से 52 रन बनाए। कप्तान केन विलियम्सन पांच रन बनाकर जसप्रीत बुमराह का शिकार बने। बुमराह ने ही ब्लंडल की 113 गेंदों पर खेली गई 55 रनों की पारी का अंत किया। इस बल्लेबाज ने अपनी पारी में आठ चैके और एक छक्का लगाया। रॉस टेलर और हेनरी निकोलस ने नाबाद पांच-पांच रन बनाकर जीत की औपचारिकताएं पूरी कीं। भारत के लिए बुमराह ने दो विकेट लिए। उमेश के हिस्से एक सफलता आई। पहली पारी में पांच विकेट लेने वाले काइल जेमिसन प्लेयर ऑफ द मैच बने। उन्होंने कीवी टीम की पहली पारी में अहम समय पर 49 रन बना टीम को भारत के स्कोर के करीब पहुंचाने में बल्ले से बड़ी भूमिका निभाई थी।

कपिल का मास्टर स्ट्रोकआईपीएल नहीं खेलें टीम इंडिया के खिलाड़ी…

भारतीय टीम को पहली बार विश्व विजेता बनवाने वाले पूर्व कप्तान और धुरंधर आलराउंडर कपिल देव ने टीम इंडिया के खिलाड़ियों को आगाह करते हुए कहा है कि उन्हें देश के लिए खेलना ज्यादा जरूरी है न कि आईपीएल खेलना… आईपीएल में आप देश का प्रतिनिधित्व नहीं करते। अगर आप थक गए हैं तो आईपीएल की जगह आराम को तरजीह दीजिए….. आपको बतादें कि इंडियन टीम इस वक्त न्यूजीलैंड दौरे पर है. इंडिया और न्यूजीलैंड के बीच दूसरा टेस्ट 29 फरवरी से शुरू हो रहा है। टीम इंडिया के खिलाड़ी इस वक्त करीब 50 दिन के न्यूजीलैंड दौरे पर हैं। न्यूजीलैंड दौरे से आने के बाद इंडियन क्रिकेटर्स को 29 मार्च से 56 दिन तक चलने वाले इंडियन प्रीमियर लीग के 13वें सीजन में हिस्सा लेना है. टीम इंडिया बिजी शेड्यूल को देखते हुए वर्ल्ड कप विजेता टीम के कप्तान रहे कपिल देव ने भारतीय खिलाड़ियों को आईपीएल में हिस्सा नहीं लेने की सलाह दी है।उन्होंने कहा कि जब खिलाड़ी अपने देश के लिए खेल रहे होते हैं तो उन्हें अपना सर्वश्रेष्ठ देने की जरूरत होती है. कपिल देव ने कहा है कि देश के लिए खेलने से समझौता नहीं करना चाहिए क्योंकि खिलाड़ी फ्रेंचाइजी क्रिकेट खेलने में बहुत अधिक ऊर्जा लगाते हैं.16 साल के अपने अंतर्राष्ट्रीय करियर में भारत के लिए 131 टेस्ट और 225 वनडे मैच खेलने वाले पूर्व कप्तान ने कहा कि जब वे खेलते थे तो उन्हें भी थकान महसूस होती थी. कपिल ने कहा, कई बार, हां. जब आप एक सीरीज में खेलते रहते हैं और उस समय थकान महसूस करते हैं जब आप रन नहीं बना रहे होते हैं या विकेट नहीं ले रहे होते हैं। लेकिन जब आप ऐसा करते हैं तो कभी नहीं थकते हैं. आप सात विकेट लेते हैं और एक दिन में 20-30 ओवर गेंदबाजी करते हैं।बता दें कि पिछले साल आईपीएल के बाद टीम इंडिया ने इंग्लैंड में वनडे वर्ल्ड कप खेला. वर्ल्ड कप के तुरंत बाद इंडियन टीम वेस्टइंडीज दौरे पर गई. उसके बाद इंडिया ने घर में दक्षिण अफ्रीका और बांग्लादेश के खिलाफ टेस्ट सीरीज खेली. इसके तुरंत बाद वेस्टइंडीज और श्रीलंका के खिलाफ ट्वेंटी-ट्वेंटी सीरीज हुई. फिर इंडिया ने पहले ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ घर में वनडे सीरीज खेली और उसके बाद करीब 40 दिन से इंडियन खिलाड़ी न्यूजीलैंड दौरे पर हैं

आईसीसी महिला टी-20 विश्व कपः भारत ने श्रीलंका को 7 विकेट से हराया…

आईसीसी महिला टी-20 विश्व कप के अपने आखिरी लीग मैच में श्रीलंका को सात विकेट से रौंदते हुए टीम इंडिया ने ग्रुप ए में टॉप करने के साथ ही अपनी चैथी जीत भी हासिल कर ली। इस मैच में श्रीलंकाई टीम की कप्तान चमारी अट्टापट्टू ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया और निर्धारित 20 ओवर में 9 विकेट खोकर 113 रन बनाए। इसके जवाब में भारतीय टीम ने 14.4 ओवर में 3 विकेट खोकर शफाली वर्मा की तूफानी 47 रन की पारी के दम पर हासिल कर लिया। गौरतलब है कि भारतीय टीम शुरूआती तीनों मुकाबले जीत कर पहले हीं सेमीफाइनल में पहुंच गई है। भारत ने पहले मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया को 17 और फिर बांग्लादेश को 18 रन से हराया था। जबकि तीसरे मैच में न्यूजीलैंड को 3 रन से शिकस्त दी थी। वहीं श्रीलंका टीम अपने दोनों मैच हारकर सेमीफाइनल की दौड़ से बाहर हो गई है।

टीम इंडिया आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के खिलाफ खेलेगी डे- नाइट टेस्टः गांगुली


बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने कहा है कि भारत आगामी दौरे में आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के खिलाफ डे- नाईट टेस्ट खेलेगा और इसकी शुरूआत इस साल के आखिरी में होने वाले आस्टेªलिया दौरे से होगी। भारत ने अपना पहला दिन-रात्रि टेस्ट पिछले साल नवंबर में बांग्लादेश के खिलाफ ईडन गार्डन्स में खेला था और इस मुकाबले में आसान जीत दर्ज की थी। बोर्ड के इस फैसले से पहले कप्तान कोहली ने भी पिछले महीने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ घरेलू सरजमीं पर तीन मैचों की वनडे सीरीज के पहले मैच से पूर्व कोहली ने भी कहा था कि हमारी टीम आस्ट्रेलिया में कहीं भी डे- नाइट टेस्ट खेलने के लिए तैयार है फिर चाहे यह गाबा हो या पर्थ यह हमारे लिए मायने नहीं रखता। गांगुली ने दिल्ली में अपेक्स काउंसलिंग की बैठक के बाद कहा कि भारत आगामी दौरे पर आस्ट्रेलिया के साथ डे- नाइट टेस्ट खेलेगा। वहीं इंग्लैंड के खिलाफ भी 2021 के जनवरी से शुरू हो रही सीरीज में भी डे-नाइट टेस्ट खेलेगा। और जल्द ही इसका औपचारिक ऐलान किया जाएगा। गौरतलब है कि इससे पहले भारत ने 2018-19 में एडलिेड में डे-नाइट टेस्ट खेलने का ऑस्ट्रेलिया का अनुरोध ठुकरा दिया था और इसके बाद अनुभव की कमी का हवाला दिया था।